ज़िन्दगी – एक तोहफा


ज़िन्दगी – एक तोहफ़ा

एक अजीब सी दुनिया है …

चेहरे पर चेहरे डाले रहते हैं यहाँ पर लोग …

कुछ हस्ते हैं , कुछ गाते हैं तो कुछ अपनी मुस्कान में ही आंसू छुपाकर , दुनिया की भीड़ में गुम हो जाते हैं ..

सच क्या है झूठ क्या है … ज़िन्दगी के सफ़र में वो अक्सर भूल जाते हैं

गुज़ारिश है मेरी बस उन लोगों से इतनी …

जज्बा जीने का वो कायम रखें ..

जीयें हर पल में खुद को भुलाकर ..

यह ज़िन्दगी है कुदरत का तोहफा

कबूल लीजिये हंसकर उस खुदा की खातिर
Advertisements

8 thoughts on “ज़िन्दगी – एक तोहफा

  1. Hmm…gud work miss ankita…i think we should interact and explore a new world of poetries….currently m writing a novel and i am writing poetries from last 5 years..add me here if u think m a genuine guy with whom u can explore sumthing very decent,may be it can change our lives

    Like

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s